World Bank Team Inspects Jalagam Project (Gramya-02)

0
208

विश्व बैंक मिशन टीम द्वारा जलागम कार्यों का निरीक्षण

उत्तराखण्ड राज्य के 8 जनपदों में विश्व बैंक द्वारा वित्त पोषित, उत्तराखण्ड विकेन्द्रीकृत जलागम विकास परियोजना (ग्राम्या-2) वर्ष 2014-15 से क्रियान्वित की जा रही है। प्रत्येक छः माह के अन्तराल पर, विश्व बैंक मिशन टीम द्वारा परियोजना क्षेत्रों के अर्न्तगत कराये गये कार्यों का निरीक्षण किया जाता है तथा निरीक्षणोपरान्त अपने सुझाव भी प्रदान किये जाते हैं। इसी के क्रम में, विश्व बैंक मिशन टीम, जिसके टीम लीडर रंजन सामन्त्रय एवं उनके सदस्य श्री फोके फेनेमा, सुधरेन्द्र शर्मा, सोनाली ए डेविड, लीना मल्होत्रा श्री एबेल लुफाफा ने देहरादून प्रभाग विकासनगर ग्राम्या-2, के अन्तर्गत कालसी विकास खण्ड के ग्राम पंचायत झुटाया के राजस्व ग्राम निछिया तथा ग्राम पंचायत चापनू में कराये गये कार्यों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के समय अपर परियोजना निदेशक/परियोजना निदेशक, ग्राम्या-2, नीना ग्रेवाल, कुमाउ एवं गढवाल मण्डलों के परियोजना-निदेशक, पी0के सिंह, सयुक्त निदेशक, डॉ0 आर0पी0 कवि, उप परियोजना निदेशक, देहरादून प्रभाग विकासनगर, पी0एन0शुक्ल, पौड़ी प्रभाग के उप परियोजना निदेशक, अखिलेश तिवारी, अल्मोडा एवं बागेश्वर प्रभाग के उप परियोजना निदेशक डॉ0 एस0के0 उपाध्याय, पिथौरागढ़ प्रभाग के उप परियोजना निदेशक, श्री सी0बी0 त्रिपाठी, उप परियोजना निदेशक मुख्यालय, डॉ0 एस0के सिंह, उप परियोजना निदेशक मुख्यालय श्री अजय कुमार, कृषि एवं उद्यान अधिकारी डॉ0 सी0एम0एस0 नेगी, यूनिट अधिकारी देहरादून प्रभाग विकासनगर विनोद कुमार, नवीन चन्द्र पाण्डेय, जे0एस0 रावत, मुख्यालय के अन्य अधिकारी रमेश नेगी, डॉ0 जे0सी0 पाण्डेय, डॉ0 ए0के उपाध्याय, कुलदीप थपलियाल, विकासनगर प्रभाग ट्रेनिंग इंचार्ज श्री राजेन्द्र सिंह नेगी, एम0आई0एस0 ऑपरेटर श्री खुर्शीद अहमद, प्रभागीय समन्वयक सुश्री आश नेगी एवं समस्त महिला फेसिलिटेटर भी उपस्थित थे।विश्व बैंक मिशन टीम द्वारा सर्वप्रथम ग्राम पंचायत चापनू में वर्ष 2016-17 के शीतकाल में कराये गये अनार उद्यान 1.25 हैक्टेयर का निरीक्षण किया, इसके पश्चात झुटाया ग्राम पंचायत के राजस्व ग्राम निछिया में वर्ष 2017-18 में 5 हैक्टेयर क्षेत्रफल में कराये गये वनीकरण कार्यों का निरीक्षण किया। उक्त के पश्चात सामूहिक सिंचाई टैंक, सम्पर्क मार्ग-सुदृढीकरण, पॉली हाउस, रूफ वाटर हावेस्टिंग टैंक, पशु आवास तथा कृषि सब्जी प्रदर्शनों का निरीक्षण भी किया गया। निरीक्षण करने के पश्चात, विश्व बैंक मिशन टीम के सम्मान में ग्राम वासियों द्वारा, उनके गांव के चौपाल में, एक स्वागत समारोह का भी आयोजन किया गया, जिसमें जलागम एवं पर्यावरण से सम्बन्धित सांस्कृति कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन के पश्चात किया गया। उक्त कार्यक्रम के प्रारम्भ में झुटाया ग्राम पंचायत के प्रधान बिशन सिंह चौहान के द्वारा मंच पर उपस्थित सभी मंचासीन अधिकारियों तथा कर्मचारियों का अभिनन्दन किया गया तत्पश्चात देहरादून प्रभाग के उप परियोजना निदेशक श्री पी0एन0 शुक्ल द्वारा प्रभाग की ओर से सभी अतिथियां एवं ग्राम वासियों का हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन करते हुये यह अवगत कराया गया कि ग्राम्या-2 परियोजना का मुख्य उद्देश्य, जल, जंगल एवं जमीन का विकास करना है। इसी के क्रम में उन्होंने यह भी अवगत कराया कि कोई भी विकास, पर्यावरण की कीमत पर नहीं होना चाहिए, उन्होने जून 2013 में केदारनाथ में हुई भयावय त्रासदी तथा केरल राज्य में आये विनाशकारी बाढ का उदाहरण देते हुए यह अवगत कराया कि यदि हम अब भी नहीं चेते तो इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति बार-बार हो सकती है। उन्होंने यह भी अवगत कराया कि परियोजना क्षेत्र के 75 राजस्व ग्रामों में से 46 राजस्व ग्रामों में परियोजना के प्रयास से पानी पहुंचा दिया गया है, जिससे कृषि एवं सब्जी उत्पादन के क्षेत्र में वृ़द्ध हुई है। उक्त के अतिरिक्त इस वर्ष 24 राजस्व ग्रामों में पानी पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी अवगत कराया कि परियोजना क्षेत्र के अन्तर्गत 187 जल स्रोतों का ट्रीटमेन्ट प्लान बना लिया गया है जिसमें से 56 जल स्रोतों के ट्रीटमेन्ट का कार्य प्रारम्भ भी कर दिया गया है एवं शीघ्र ही अन्य जल स्रोतों का भी ट्रीटमेन्ट करा दिया जायेग, जिससे परियोजना क्षेत्र के जल स्रोतों में पानी की अभिवृद्धि होगी। इसके साथ ही उन्होंने परियोजना क्षेत्र के अन्तर्गत कराये गये वानिकी, उद्यानीकरण तथा निर्बलवर्ग आदि हेतु कराये गये कार्यो के विषय में भी संक्षिप्त प्रकाश डाला। उन्होंने यह भी अवगत कराया, कि उक्त समस्त कार्यो में पारदर्शिता का ध्यान रखते हुए, ग्राम पंचायतों के माध्यम से ही कार्य सम्पादित कराया जाता है।उक्त के पश्चात परियोजना क्षेत्र के ग्राम पंचायत ब्यासभूड के कृषक श्री राजेन्द्र जोशी, ग्राम प्रधान हरिपुर, श्रीमती रेखा देवी, निर्बल वर्ग सदस्यों एवं अन्य ग्राम प्रधानों एवं कृषकों द्वारा परियोजना द्वारा कराये गये अन्य कार्यों के बारे में बताया गया तथा परियोजना क्षेत्र में कराये जा रहे कार्यों की जानकारी दी। ग्राम पंचायत झुटाया के राजस्व ग्राम के एक ग्रामीण श्री संतराम चौहान द्वारा मंच का संचालन किया गया। अन्त में विश्व बैंक मिशन टीम के जन प्रतिनिधियों द्वारा ग्रामीणों से वार्ता की गयी एवं परियोजना द्वारा कराये गये समस्त कार्यों की सराहना की गयी।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY