राज्य बनने के 19 साल बाद भी बदहाली का दंश झेलता पौड़ी…

0
102

राज्य बनने के 19 साल बाद भी बदहाली का दंश झेलता पौड़ी…
भगवान सिंह,जागो ब्यूरो रिपोर्ट:

राज्य स्थापना दिवस के साथ ही उत्तराखण्ड ने अपने 19 सालो का सफर पूरा कर 20वे वर्ष में प्रवेश कर लिया है,राज्य स्थापना दिवस दिवस राजनेताओं के लिये जश्न का विषय हो सकता है,लेकिन राज्य आंदोलन की चिंगारी जिस पौड़ी जनपद से सुलगी थी,उसकी मूलभूत समस्याओ के निराकरण और विकास के सपने आज भी सपने ही बनकर सिमट रहे हैं,19 साल बाद भी राज्य की मूलभूत जनसमस्याओ का भी समाधान न होने से निराश पौड़ी की जनता का आज भी मानना है,कि जिन सपनो को लेकर पृथक राज्य की मांग उठाई गई थी,वे सपने आज भी सपने बन कर ही रह गये हैं,रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ सड़क जैसी मूलभूत समस्याओ के साथ ही जंगली जानवरो के आतंक से बंजर होते खेत खलियान इस बात का प्रमाण दे रहे हैं ,कि 19 साल बाद भी पहाड़ो की तस्वीर और किस्मत बिल्कुल नही बदली,जबकी पलायन की मार झेल रहे पौड़ी जिले ने ही उत्तराखण्ड राज्य को अब तक चार मुख्यमन्त्री दिए हैं, बावजूद इसके समस्या जस ही तस ही है,जनता का कहना है की जन समस्याओ को सुलझाने के लिए सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत और अन्य मंत्रियो को जनता के साथ सीधा संवाद करना चाहिये, तभी समस्याओं का हल निकाला जा सकता है, साथ ही पहाड़ो के पूरी तरह वीरान होने से पहले पहाड़ के विकास और जनसमस्याओ की तरफ सरकार को अपना ध्यान आकर्षित करना ही होगा ,तभी पहाड़ी राज्य उत्तराखण्ड के स्थापना दिवस का जश्न मनाने का औचित्य है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY