How Daughter of Hills Shristi will Become Docter for service of Hill People?

0
490

पहाड़ की बेटी सृष्टि आपकी सेवा के लिये कैसे बने डॉक्टर?

पहाड़ों की बड़ी समस्या डॉक्टरों का यँहा काम करने की अनिच्छा रही है,यँहा तक कि पहाड़ों की पैदाइश डॉक्टर भी यँहा काम करना पसन्द नहीं करते,इसकी बड़ी वज़ह पहाड़ों में डॉक्टरी प्रॉफेशन अपनाकर क्लीनिक खोलकर या सरकारी नौकरी जॉइन कर,मैदानी क्षेत्रों से तुलनात्मक रूप से ज्यादा पैसा नहीं कमाया जा सकता,पौड़ी में या पहाड़ के अन्य इलाकों में जनता की हमेशा माँग रहती है, कि अस्पतालों में पूरे डॉक्टर हों, जिससे उन्हें इलाज़ के लिये देहरादून और आस पास के मैदानी क्षेत्रों में आपातकालीन रूप से न दौड़ना पड़े,कई लोग तो गम्भीर बीमारी से पीड़ित होने के चलते पहाड़ों से पलायन करने को ही मजबूर हो जाते हैं, ऐसे में बड़ा सवाल यह कि पहाड़ में डॉक्टर कैसे लाये जायें, तो इसका जवाब है,कि हमें पहाड़ में काम कर जनसेवा का जज़्बा रखने वाले डॉक्टर ख़ुद अपने बीच से पैदा करने होंगे,इस बीच सुखद ख़बर यह कि पौड़ी में जनसेवा से लम्बे समय से जुड़े राजकुमार पोरी जी की छोटी बेटी सृष्टि का चयन एमबीबीएस के लिये हुआ है,इससे पूर्व उनकी बड़ी बेटी ऋतु का चयन भी एमबीबीएस के लिए हुआ था,किन्तु आर्थिक तंगी के चलते एमबीबीएस की भारी फीस का जुगाड़ करने में असमर्थ होने पर,उन्हें उसे नर्सिंग का कोर्स करवाना पड़ा,वही हालात अब सृष्टि के लिये भी पैदा हो गये हैं,सृष्टि डॉक्टर बनकर पहाड़ और खासकर अपने गृहनगर पौड़ी में डॉक्टरों की कमी के चलते,यंही डॉक्टरी प्रॉफेशन से जनसेवा करना चाहती है ,लेकिन सवाल यह कि सृष्टि को डॉक्टर बनाने के लिए भारी भरकम फ़ीस का जुगाड़ कैसे किया जाय,जरा सोचिये,क्या यह हम सब पहाड़वासियों की व्यक्तिगत जिम्मेदारी नहीं है कि सृष्टि जैसे पहाड़ में डॉक्टरी प्रॉफेशन से जनसेवा करने का जज़्बा रखने वाले बच्चों को डाक्टर बनाने की ज़िम्मेदारी हम पहाड़वाद की बात करने वाले पहाड़वासी ख़ुद अपने कन्धों पर लें और सरकार भी जरा सोचे कि बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सिर्फ़ जुमला बनकर न रह जाये..

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY