अल्मोड़ा के भास्कर जोशी सरकारी स्कूलों के बच्चों को नाम के अनुरूप घर पर ही पहुंचा रहे ज्ञान का उजियाला..

0
149

अल्मोड़ा के भास्कर जोशी सरकारी स्कूलों के बच्चों को नाम के अनुरूप घर पर ही पहुंचा रहे ज्ञान का उजियाला..

जागो उत्तराखण्ड विशेष:

भास्कर जोशी,सहायक अध्यापक राजकीय प्राथमिक विद्यालय, बजेला,विकासखण्ड धौलादेवी जिला अल्मोड़ा ने कक्षा एक से कक्षा आठ तक के सरकारी स्कूलों के बच्चों के लिये एक व्हाट्सएप ग्रुप तैयार किया है,जिसमें अब तक अल्मोड़ा के अतिरिक्त कई अन्य जनपदों के बच्चे भी जुड़ चुके हैं और कोविड-19 लॉक डाउन के दौरान घर पर ही ऑनलाइन पठन -पाठन कर रहे हैं,उत्तराखण्ड में विद्यालय तेरह मार्च से बंद है,इस कारण से बच्चों की दैनिक दिनचर्या प्रभावित होने के साथ-साथ उनकी शिक्षा भी प्रभावित हो रही है पर न तो भास्कर ने पढ़ाना छोड़ा है और ना ही उनसे जुड़े विद्यार्थियों ने पढ़ना! उन्होंने प्रदेश के विशेष रूप से पहाड़ी जनपदों के कक्षा एक से आठ तक के बच्चों से अनुरोध किया है कि जो भी उनके साथ व्हाट्सएप के माध्यम से जुड़कर पढ़ना चाहे और इस समय का सदुपयोग करना चाहें, वे इस हेतु बनाये गये “ऑनलाइन कक्षा समूह” से जुड़ सकते हैं,यदि बच्चों के पास इंटरनेट सुविधा है और एंड्रॉयड फोन है तो आजकल सभी लोग व्हाट्सएप प्रयोग कर रहे हैं,अगर उनके फ़ोन पर व्हाट्सएप एप्प नहीं है तो वे गूगल प्ले स्टोर से भी व्हाट्सएप डाउनलोड कर सकते हैं,उन्होंने कहा है कि जिन बच्चों के पास यह सब सुविधाएं न भी हों, तो भी वे परेशान न हों, वे अपनी अपनी पाठ्य पुस्तक से स्वयं पढ़े और जहाँ कठिनाई आये,उन्हें तुरन्त मिसकॉल द्वार सूचित करें वे सामाजिक दूरी का पालन करते हुए अपने मित्र के एंड्राइड फोन या फिर अपने स्वयं के साधारण फोन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। 

ऑनलाइन कक्षा में बच्चों को यह मिलेगा:-
1.एनसीईआरटी की पुस्तिकाएं पीडीएफ के रूप में
2.पाठों के वीडियो लिंक्स
3.हस्तलिखित प्रश्न
4.सामान्य ज्ञान प्रश्न
5 .आपके प्रश्नों के उत्तर
6. योगाभ्यास हेतु मार्गदर्शन
7. कहानी और कविताओं के चित्र

जो भी छात्र इस समूह से जुड़ना चाहे वे भास्कर जोशी जी के मोबाइल नम्बर- 8899477295 पर जुड़ने हेतु अपना व अपने विद्यालय के नाम के साथ अनुरोध कर सकते हैं।

*प्रक्रिया*
एनसीआरटी की वेबसाइट से सबसे पहले सम्बंधित कक्षा की पाठ्य पुस्तक डाउनलोड की जाती है व उनके पाठों को बच्चों को प्रेषित किया जाता है,पाठ के साथ अपने हाथ से लिखें प्रश्न उत्तर दिए जाते हैं,यह प्रक्रिया रोज की रोज चलती है,बच्चे जहां कहीं समस्या पाते हैं,वे फोन कर कर पूछ लेते हैं,क्योंकि हमारे पहाड़ों में नेटवर्क की समस्या रहती है,इसलिए वीडियो भेजने में समस्या आती है,लेकिन फिर भी यह कार्य किया जा रहा है और इसके बेहतर परिणाम भी मिल रहे हैं,तेरह मार्च से बच्चे अवकाश पर हैं पर वह कुछ ना कुछ गतिविधियों में संलग्न है,इस दौरान उन्हें अधिकतम सामग्री व्हाट्सएप के माध्यम से प्राप्त हो रही है,विद्यालय खुलने पर अवकाश के दिनों के पढ़ाये गये पाठों की पुनरावृति कि जायेगी , बच्चों से फीडबैक लेने के लिये उनसे किये गए कार्य की फ़ोटो प्रेषित करने को कहा जाता है,बच्चों से वॉइस काल कर के लगातार संवाद किया जा रहा है , उपरोक्त सभी गतिविधि उन्हें व्यस्त रखने के साथ-साथ ज्ञान भी दे रही है ।भास्कर जोशी यह कार्यक्रम न सिर्फ अल्मोड़ा जनपद में चला रहे है,वरन उत्तराखण्ड के अन्य जिलों के बच्चे भी उनके साथ जुड़ चुके है ,उनके द्वारा अपने विद्यालय राजकीय प्राथमिक विद्यालय के बच्चों के भविष्य की चिन्ता को लेकर किया गया कार्य अब उत्तराखण्ड के एक सौ सत्तर बच्चों तक अपनी पहुंच बना चुका है,उत्तराखण्ड के सरकारी स्कूलों के बच्चों के लिये अपने नाम के “भास्कर” के अनुरूप घर तक ज्ञान रूपी किरणें पहुँचाने वाले शिक्षक भास्कर जोशी को “जागो उत्तराखण्ड”का नमन

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY